दिल्लीराज्य

Arvind Kejriwal Arrest: क्या है नई शराब नीति जिस मामले में हुई है दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी

SB News Desk, New Delhi: दो घंटे की लंबी पूछताछ के बाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को ED ने गुरूवार देर शाम गिरफ्तार कर लिया. यह गिरफ्तारी दिल्ली में नई शराब पॉलिसी घोटाले के तहत हुई है. क्या था ये घोटाला और नई शराब नीति? देते है आपको पूरी जानकारी इस खबर में.

नई शराब नीति (Delhi Liquor Policy)
दिल्ली की AAP सरकार ने 17 नवंबर 2021 को नई शराब नीति लागू की थी, जिसके तहत दिल्ली को 32 जोन में बांटा गया और हर जोन में 27 शराब की दुकान खोलने की बात कही गई थी. इस तरह से से दिल्ली में कुल 864 शराब की दुकाने खोली जानी थी.

नई शराब नीति में सरकारी दुकानों की जगह प्राइवेट दुकाने खोले जाने की बात कही गई थी. पुरानी शराब नीति में 60 प्रतिशत दुकानें सरकारी और 40 प्रतिशत प्राइवेट थीं, जबकि नई शराब नीति में सभी दुकानों को प्राइवेट कर दिया गया था.

शराब पीने की उम्र की गई कम
नई शराब नीति में शराब पीने की उम्र में भी बदलाव किया गया था. पहले शराब पीने के लिए न्यूनतम आयु 25 साल थी, जिसे कम करके 21 साल कर दिया गया था.

रात 3 बजे तक दुकान खोलने की अनुमति
नई शराब नीति के अनुसार, राजधानी में होटल, क्लब आदि खोलने का समय रात 3 बजे तक कर दिया गया था. वहीं जिनके पास के 24 घंटे संचालन का लाइसेंस था, उसमें कोई बदलाव नहीं किया गया.

लाइसेंस फीस में बढ़ोतरी
नई शराब नीति में लाइसेंस की फीस भी कई गुना बढ़ा दी गई थी. पहले एल-1 लाइसेंस के लिए 25 लाख रुपये देने होते थे, नई नीति में इसके लिए पांच करोड़ रुपये चुकाने पड़ रहे थे. इसके साथ ही सभी कैटेगिरी के लाइसेंस फीस में इजाफा किया गया था.

3500 करोड़ के फायदे का तर्क
नई शराब नीति को लेकर AAP सरकार ने तर्क दिया था कि इससे दिल्ली सरकार को 3500 करोड़ रुपये का फायदा होगा.

One Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button