SB News

चबाना शुरू करें मुलेठी की जड़, पूरी सर्दियां दूर रहेंगी खांसी-बुखार जैसी 10 बीमारी

मेडिकल में बेशक बहुत तेजी से बदलाव हुआ है लेकिन हजारों सालों से चलती आ रही है आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति पर लोगों का विश्वास आज भी उतना ही मजबूत है जितना आपके पुरखों का था। आयुर्वेद बीमारी को नहीं उसकी जड़ को खत्म करने पर काम करता है। विभिन्न बीमारियों और संक्रमणों के इलाज के …
 | 
चबाना शुरू करें मुलेठी की जड़, पूरी सर्दियां दूर रहेंगी खांसी-बुखार जैसी 10 बीमारी


मेडिकल में बेशक बहुत तेजी से बदलाव हुआ है लेकिन हजारों सालों से चलती आ रही है आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति पर लोगों का विश्वास आज भी उतना ही मजबूत है जितना आपके पुरखों का था। आयुर्वेद बीमारी को नहीं उसकी जड़ को खत्म करने पर काम करता है। विभिन्न बीमारियों और संक्रमणों के इलाज के लिए आयुर्वेद में अभी भी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने पर जोर दिया जाता है।

आयुर्वेद में विभिन्न जड़ी बूटियों का इस्तेमाल किया जाता है और उनमें से एक पारंपरिक जड़ी बूटी मुलेठी भी है, जो कई तरह से स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। यह सर्दी और फ्लू जैसे लक्षणों का इलाज करने के लिए एक बेहद फायदेमंद जड़ी बूटी हो सकती है। सर्दियों के मौसम में खांसी, बुखार, जुकाम, गले की खराश, बदन दर्द और टॉन्सिल्स जैसी समस्याओं का ज्यादा खतरा होता है और इन सबसे राहत पाने के लिए आप आप मुलेठी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

मुलेठी क्या है?

मुलेठी को ‘स्वीटवुड’ के रूप में भी जाना जाता है। यह एक पारंपरिक औषधीय जड़ी बूटी है जो सुगंधित होती है और इसका उपयोग चाय और पेय पदार्थों में स्वाद जोड़ने के लिए किया जाता है। आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल श्वसन और पाचन विकारों के इलाज के लिए कहा जाता है।

मुलेठी के फायदे

रिसर्चगेट पर प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, मुलेठी में एंटी-वायरल, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं, जो पाचन तंत्र को बेहतर बनाते हैं। यह कब्ज से राहत देता है, गैस्ट्रिक और पेप्टिक अल्सर को रोकता है। इसके अलावा, यह प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने, बीमारियों और संक्रमणों को दूर रखने में सहायक है। इसे हाई कोलेस्ट्रॉल वाले लोगों के लिए फायदेमंद कहा जाता है क्योंकि जड़ी बूटी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट रक्त वाहिकाओं को फैलाने में मदद करते हैं और धमनियों में प्लाक जमा नहीं होने देता है।

कैसे करें मुलेठी का इस्तेमाल

शरीर में कई बीमारियों के इलाज में मदद करने के अलावा, मुलेठी खांसी और सर्दी को ठीक करने में मदद करती है। यह गले में खराश और अन्य श्वसन लक्षणों के लिए एक बढ़िया समाधान है।

मुलेठी का काढ़ा है बढ़िया उपाय

मुलेठी की कुछ छड़ियों को पानी में उबाल सकते हैं। एक बार हो जाने के बाद, गले की खराश को ठीक करने के लिए इसे धीरे-धीरे घूंट-घूंट कर पिएं। इसे बनाने का दूसरा तरीका यह है कि गुनगुने पानी में एक चम्मच शहद में थोडा मुलेठी पाउडर मिला लें। यह सूखी खांसी को ठीक करने में मदद कर सकता है। आप मुलेठी की जड़ का एक टुकड़ा भी ले सकते हैं, इसमें तुलसी और पुदीना की कुछ पत्तियां मिला सकते हैं और इसे 10 मिनट के लिए धीमी आंच पर पकने दें। पत्तियों और जड़ों को छान लें और गर्म या गर्म पिएं।

मुलेठी को चबाना भी है असरदार उपाय

अगर आपको मुलेठी का काढ़ा या इससे बनी चाय पसंद नहीं है, तो आप इसे आयुर्वेदिक जड़ी बूटी को कच्चा चबा सकते हैं। गले में खराश और कर्कश आवाज के लिए मुलेठी की एक टहनी चबाना भी एक प्रभावी उपाय है।

अंग्रेजी में इस स्‍टोरी को पढ़ने के लिए यहां क्‍लिक करें

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।



Click Here For Latest News Updates

WhatsApp Group Join Now
google news Follow On Google News Follow us