SB News

इन किसानो को नही मिलेगा 16वीं क़िस्त का 6 हजार रुपए, देखे लिस्ट

 | 
PM kisan

SB News Digital Desk: पीएम किसान भारत सरकार से 100 फीसदी फंडिंग वाली स्कीम है. योजना के तहत, सभी भूमि-धारक किसान परिवारों को तीन समान किस्तों में प्रत्येक वर्ष 6,000 रुपए मिलते हैं. यह धनराशि लाभार्थियों के बैंक अकाउंट्स में डिपॉजिट की जाती है. पीएम किसान की 15वीं किस्त 15 नवंबर 2023 को जारी की गई थी. पीएम किसान की अगली किस्त फरवरी और मार्च 2024 के बीच जारी की जाएगी.

 




पीएम किसान वेबसाइट के अनुसार, PMKISAN रजिस्टर्ड किसानों के लिए eKYC अनिवार्य है. ओटीपी बेस्ड ईकेवाईसी पीएमकिसान पोर्टल पर उपलब्ध है या बायोमेट्रिक बेस्ड ईकेवाईसी के लिए नजदीकी सीएससी सेंटर्स से संपर्क किया जा सकता है.’ ई-केवाईसी पूरा ना होने पर लाभार्थी किसानों को किस्त नहीं मिल सकती है.

 

 

एग्रीकल्चर राजस्थान वेबसाइट के अनुसार जिले के 39580 किसानों की ई-केवाईसी, 11566 किसानों की आधार सीडिंग और 24007 किसानों की भूमि का वेरिफिकेश होना बाकी है. जिसे जल्द ही पूरा नहीं किया गया तो अगली किस्त का लाभ नहीं मिलेगा. अगर इन किसानों ने 31 जनवरी तक ई-केवाईसी नहीं कराई तो वे अपात्र हो सकते हैं.


जिला कलक्टर रोहिताश्व सिंह तोमर ने बताया कि 31 जनवरी तक ई-केवाईसी नहीं करवाने वाले किसानों की पात्रता समाप्त की जा सकती है और जिन किसानों ने अभी तक भूमि की बुआई व डीबीटी नहीं करवाई है, उनकी किस्त का भुगतान रोका जा सकता है और उनका अकाउंट निष्क्रिय हो सकता है.

जिन किसानों की लैंड का वेरिफिकेश नहीं हुआ है, वे संबंधित पटवारी हल्का या तहसील कार्यालय में जाकर जिन डॉक्युमेंट्स में लिस्ट नंबर, रजिस्ट्रेशन नंकर एवं मोबाइल नंबर दर्ज है को देकर अपनी लैंड की डिटेल वेरिफाई कर सकते हैं.

 

किसान अपने नजदीकी ई-मित्र, सीएससी सेंटर पर जाकर अंगूठे के निशान के माध्यम से ई-केवाईसी करा सकते हैं और पीएम किसान जीओआई ऐप डाउनलोड करके अपने चेहरे के माध्यम से भी ई-केवाईसी करा सकते हैं. किसान अपने बैंक अकाउंट को आधार से लिंक करा सकते हैं या बैंक के अलावा इंडिया पोस्ट बैंक के माध्यम से भी अकाउंट खुलवाने के लिए डीबीटी लिंक करा सकते हैं.

ओटीपी बेस्ड ई-केवाईसी (पीएम-किसान पोर्टल और मोबाइल ऐप पर उपलब्ध) बायोमेट्रिक बेस्ड ई-केवाईसी (कॉमन सर्विस सेंटर (सीएससी) और राज्य सेवा केंद्र (एसएसके) पर उपलब्ध) फेस ऑथेंटिकेशन- बेस्ड ई-केवाईसी (पीएम किसान मोबाइल ऐप पर उपलब्ध है जिसका उपयोग लाखों किसान करते हैं).
 

 

WhatsApp Group Join Now
google news Follow On Google News Follow us